क्षीरसर्करायोग की अधिक जानकारी :

क्षीरसर्करायोग की अधिक जानकारी :

चंद्र – गुरु की युती हो,
दोनोंके बीच परिवर्तन योग हो,
दोनोंके बीचद्रष्टि योग बनता हो,
तो व्यक्तिका मन पवित्र और
परमात्माकी भक्ति की ओर होता है।

आध्यात्मिक क्षेत्रमे सूर्य, चंद्र, गुरु
का बहुतही महत्त्व है।

ज्योतिषी डॉ. सुधीर शाह

Posted on 14/01/2015, in Dr.Sudhir Shah. Bookmark the permalink. क्षीरसर्करायोग की अधिक जानकारी : માટે ટિપ્પણીઓ બંધ છે.

ટિપ્પણીઓ બંધ છે.

%d bloggers like this: