” अलॊकिक महोदय पर्व “

आज ” अलॊकिक महोदय पर्व “ है .

” खगोल “  और ” धर्म “ का मिलन
आज शनीवार – पौष वद 14, दोपहर समय 15-19 से सूर्य अस्त समय तक
 श्रवण नक्षत्र, व्यतिपात योग, पौष वद अमास के संयोजन से
” अलॊकिक महोदय पर्व ” का निर्माण होता है
यह पर्व का विशिष्ट महत्त्व स्कन्दपुराण , महाभारत, निर्णयसिन्धु , आदी ग्रंथो में दीया है
इच्छीत अपूर्ण कार्यो की सिध्धि के लिये  इस पर्व  मे करा हुआ दान, ” अनंत फल “ सामान होता है
सत्ययुग में वसिष्ट्जी ने , त्रेतायुग में रघुराजाने , कलियुग में पुर्नोदारे इस पर्व में सिध्धी प्राप्त करी थी .
इस पर्व के समय मे  प्रायश्चित्त श्नान करके, जप, होम, विष्णु पूजन, और वस्त्र दान और तील दान करना चहीई .
डॉ . सुधीर शाह
9-2-2013
Advertisements

Posted on 09/02/2013, in Dr.Sudhir Shah. Bookmark the permalink. 1 ટીકા.

  1. बहुत ही अच्छा लगा
    आभार

%d bloggers like this: