आपका ‘ गोत्र ‘ क्या है, वः जानीये ‘ नक्षत्र ‘ से.

आपका ‘ गोत्र ‘ क्या है, वः जानीये ‘ नक्षत्र ‘ से.

२७ + १ अभिजित मीलके २८ नक्षत्र की गोत्र की गणना मे है,
और गोत्र का प्रकार ७ है, और वो ७ ऋषिमुनि के नामसे जाने जाते है

१. मरीचि गोत्र ऋषि मे नक्षत्र अश्विनी , भरणी , कृतिका और रोहिणी 

२. वशिषठः गोत्र ऋषि मे नक्षत्र मृगशीर्ष , आद्रा, पुनर्वसु , और पुष्य

३. अन्गिरश गोत्र ऋषि मे नक्षत्र आश्लेषा, मघा, पूर्वा फ़ाल्गुनी , और उतारा फ़ाल्गुनी 

४. अत्रि गोत्र ऋषि मे नक्षत्र हस्त , चित्रा, स्वाती, और विशाखा

५. पुलस्त्य गोत्र ऋषि मे नक्षत्र अनुराधा, ज्येष्ठा, मूल, और पूर्वाशाढा 

६. पुलह गोत्र ऋषि मे नक्षत्र उतराशाढा , अभिजित , श्रवण और धनिष्ठा

७. क्रतु गोत्र ऋषि मे नक्षत्र शतभीषा, पूर्वाभाद्रपद, उतराभाद्रपद और रेवती 

‘ कालप्रकाश ग्रन्थ ‘ मे कहा है की वर कन्या एकी गोत्र मै हो वः सगोत्री होते है, और सगोत्री के बीच शादी नही करते .

डो.सुधीर शाह

Advertisements

Posted on 04/08/2012, in Dr.Sudhir Shah and tagged , , , , , . Bookmark the permalink. आपका ‘ गोत्र ‘ क्या है, वः जानीये ‘ नक्षत्र ‘ से. માટે ટિપ્પણીઓ બંધ છે.

ટિપ્પણીઓ બંધ છે.

%d bloggers like this: